Parineeta (Hindi)


Price: ₹ 51.45
(as of Dec 15,2020 07:49:24 UTC – Details)


विचारों में डूबे हुए गुरुचरण बाबू एकांत कमरे में बैठे थे। उनकी छोटी पुत्री ने आकर कहा; ‘‘बाबू! बाबू! माँ ने एक नन्ही सी बच्ची को जन्म दिया है।’’ यह शुभ समाचार गुरुचरण बाबू के हृदय में तीर की भाँति समा गया; उसका चेहरा ऐसा सूख गया; मानो कोई बड़ा भारी अनिष्ट हो गया हो! यह पाँचवीं कन्या थी; जो बिना किसी बाधा के उत्पन्न हुई थी।—यह इसी ‌पुस्तक से।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *